हाल-ए-दिल


पूछ बैठा कोई
कि क्या है
मेरा राब्ता उनसे
बड़ी तकल्लुफ हुई
ख्यालो को मेरे
हस के फिर मैंने
कनखियों से टाला उसे
बात ये अदनी सी
मुझसे बताई न गयी

सामने मेरे बैठे रहे
वो शाम तमाम
पर नज़रे मगर उनसे
मिलायी न गयी
थे अजनबी वहाँ
हर सिम्त मेरे
मगर पलके जो झुकी
तो झुकी रही  शब् भर
फिर नज़र उठाई न गयी

ढूंढते फिर रहे है
नाम इस रिश्ते का
जहां भर में हम
न जाने कैसी
कशमकश में उन्होने फिर
आज डाला मुझे
सच कह नहीं पाए
उनसे कभी
मगर मुहब्बत भी हमसे
झुठलाई न गयी

फिरते है होंठो पे लेके
हाल-ए-दिल हम
बैठे कई दफा हम
एक ही महफ़िल में
दुःख ज़माने भर के
बयां होते रहे वहाँ
मुझसे कहानी मेरी
मगर सुनाई न गयी

रहे अजनबी बन के
उनके ही करीब हम
मगर फासले तो
फिर भी बढ़ते रहे
दूरियाँ जो दरमियाँ थी
हमसे मिटाई न गयी

पूछा आज फिर जो उन्होंने
सबब मेरी उदासी का
चुप रह कर भी आँखे
सब कह गयी उनसे
चमक मुहब्बत कि फिर
आँखों से मेरे
छुपाई न गयी ….

Advertisements

About adhrut

Will let you know once I figure it out. View all posts by adhrut

8 responses to “हाल-ए-दिल

  • Megha Kedia

    was wondering why did I started liking these kind of poems.. but reading this piece of work am sure by now that its worth pleasing.. great work anand..

  • jyoti

    aha! to mehnat kar rha hai aaj kal ladka, dkhta hai! btw u knw this one was good, i told you earlier bhi! 🙂

    • adhrut

      shukriya aapke har sujhaav k liye aur aapke blog pe likhne ka muka dene ke liye.. mai aabhaari hu aapki sahayta ka

  • unpredictedgenesis

    बहुत बदिया प्रयास है…!!!
    अगली वाली कविता इससे भी बदिया लिखिए और हमें पूरे ५ अंक देने का मौका दें !!! 🙂

    • adhrut

      जी बिलकुल| मै पूरी कोशिश करूँगा कि अगली बार आप ५ से कम आंकने कि सोच भी न सको| आपने अपना कीमती वक्त देकर हमे अनुग्रहित किया इसके लिए आभारी है हम|

  • khalid

    i guess u can write better thn this.i know you r not at your best,but still good effort.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: